Pages

Monday, December 24, 2018

छोटीसी कहानी...

यह कहानी कुछ आधे मिनिट की ही होगी.  रोजाना की तरह आज शाम मैं अपने कुत्ते को घूमाने के लिए निकला। हमारी लिफ्ट आठवीं मंजिल से नीचे जानेके बजाए उपर दसवें मंजिल पर चली गयी. दरवाजा खुला तो देखता हूँ कि एक 19/20 साल की लडकी हाथ मे nebulizer लिये खडी थी. लिफ्ट में  आनेके लिए जैसे ही उसने कदम उठाएं के कुत्ते पर नजर पड़ते ही वह ठिठक गयी. मैने कुत्तेका बेल्ट  जकडते हुए कहा "डरीयेगा नही,आप अंदर आ जाईए"
मेरे आश्वस्त करने पर वह अंदर आकर एक कोने में खडी हो गयी.  लिफ्ट निचे की ओर चल पड़ी अचानक उसने पूंछा
"मैं एक बात कहूं?".
"जी , काहिये" मैने इजाजत दी,
"आप बिलकुल मेरे पापा की तरह दिखते हो!"
"अच्छा?" मै मुस्कुराते हुए बोला
"जी, मैं जब भी आपको देखती हूँ तो मुझे मेरे पापा की याद आती हैं" उसने कहां.
"मतलब? अब पापा नही रहें? " मै बरबस पुंछ बैठा
"जी नहीं, मम्मी- पापा मैं छोटी थी तभी गुजर गये. तबसे मेरी परवरिश मामा ने की " उसने कहा
अब मेरे पास शब्द नही थे...
"पापा बिलकुल आपकी तरह दिखते थे"
पता नही कैसे, आँखे अचानक से भर आयी ...हम अपनी ही दुनिया मे कितने खोए हुयें रहते हैं.. कहीं हम अपनी बडी बडी  मंजिलें पाने की कोशिश में खोये हुए रहते हैं तो कहीं छोटी छोटी बातें किसीं के खुशीयोँ का सहारा बनती  हैं..
इतने में लिफ्ट कभी अपनी मंजिल पर रुक गयी और वह कब निकल गयी पता ही नहीं चला ...
....दिनेश G

No comments: