Pages

Saturday, May 11, 2019

खामोशीयां



इस तनहाई का आलम मत पुछना मेरे दोस्त
अब खामोशीयां भी करती है अक्सर गुफ़्टगु हमसे
© दिनेश

No comments: