Pages

Sunday, May 26, 2019

सुबह

अंधेरे से की है जो दोस्ती कुछ इस तरह हमने
जिसका इंटजार था वह सुबह  कभी हुयी ही नही
©दिनेश

No comments: